शान……… (शायरी)


शान से जीना कला है जिंदगी की
जो ख़ुशी-गम को एक साथ रखते है !
!
गैरत-ऐ-हया होती है जिनके जहन में
दुनिया उन पर हमेशा नाज करती है !!

!
!
!

डी. के. निवातियाँ _______@@@

2 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 14/10/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 14/10/2015

Leave a Reply