अच्छे दिन आ गए……

आज इस कदर हालात पैदा हो गए
पैसा हाथ नही फिर भी धनवान हो गए
रसोई से दाल और कुर्ते से जेब गायब हो गए
पहनके फटी जीन्स जैसे हम नायाब हो गए
वक़्त ने कैसी बदली करवट, …………गर्व से सब कहे अच्छे दिन आ गए !!

मानवता में बढ़ रही विषमता के अफ़साने हो गए
गाय – भैंस से ज्यादा कुत्ते पालतू हो गए
कही सड़े अनाज गोदामो में कही बच्चे भूखे सो गए
गरीब मरता गरीबी में , अमीरो के ठाठ बड़े हो गए !!
वक़्त ने कैसी बदली करवट, …………गर्व से सब कहे अच्छे दिन आ गए !!

किस तरह राजनितिक माहोल के चलम हो गए
आस्था के नाम पर लोगो को लड़ाना आम हो गए
देश के मजदूर किसान आत्म हत्या को मजबूर हो गए
सरहद पर मरने वाले जवानो के हादसे खेल हो गए
वक़्त ने कैसी बदली करवट, …………गर्व से सब कहे अच्छे दिन आ गए !!

इस कदर देश में व्यापर के तरीके आम हो गए
बेरोज़गार खोज रहे काम दो जून की रोटी के लिए
इन्हे बेरोज़गारी भत्ते देने के फरमान हो गए
सोना, गाड़ी सस्ते हो अमीरो के लिए ऐसे बजट बनाने में कामयाब हो गए !!
वक़्त ने कैसी बदली करवट, …………गर्व से सब कहे अच्छे दिन आ गए !!

किस कदर आज समाज के हालात हो गए
धर्म गुरुओ के बड़े बड़े व्यापार हो गए
माँ, बहन, बेटियां बढ़ते जुर्म के शिकार हो गए
जुर्म की दुनिया के सरगना अब सरकार हो गए !!
वक़्त ने कैसी बदली करवट, …………गर्व से सब कहे अच्छे दिन आ गए !!
!
!
!
[[_______डी. के. निवातियाँ ______]]

10 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/10/2015
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 12/10/2015
  3. आमिताभ 'आलेख' आमिताभ 'आलेख' 12/10/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 10/06/2016
  4. Bimla Dhillon 13/10/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 10/06/2016
  5. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 10/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 10/06/2016
  6. babucm babucm 10/06/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 10/06/2016

Leave a Reply