मुहब्बत

यूं तो है इंदधनुष में रंग बहुत
मुहब्बत सा गुलजार मगर है कहां

चातक होगा तडपा कई सावन
होगा जमाने का प्यासा बहुत
लब पर है इन्तज़ार के जाम कितने
बहके मुहब्बत का वो नशा है कहां

इतिहास के पन्नों पर दर्ज है कितनी ही मौतें
बलिदान के किस्से अमर है बहुत
दिल की दुनिया लुटी हो जिसकी
मर कर जीने वालों का मजार है कहां

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/10/2015

Leave a Reply