मुक्तक

शूल भी क्या फूल भी सब कँटीले हो गये |
डालियों पर जो लगाये फल कसैले हो गये |
बात किसकी अब करूँ आदमी या जानवर की ,
आदमी तो जानवर से भी विषैले हो गये |
आदेश कुमार पंकज

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/10/2015

Leave a Reply