हिन्दी

मेरी प्यारी भाषा हिन्दी |
जग से न्यारी भाषा हिन्दी |
शुद्ध सरल और सीधी साधी ,
जो लिक्खो सो पढ़ लो तुम ,
अनुपम अजब निराली हिन्दी |
ऋषि -मुनियों की भाषा है ,
देव- संस्कृति की रक्षक है ,
सरस्वती की कविता हिन्दी |
बड़ों को आदर दिलवाती ,
छोटों को है प्यार सिखाती ,
नम्रता का भंडार है हिन्दी |
हम सब में यह मेल कराती ,
हमको अच्छी राह दिखाती,
हम सबकी अरमान है हिन्दी |
हिंदुस्तानी -भाषा है यह ,
निर्माणों की आशा है यह ,
भारत की पहचान है हिन्दी |
आन न मिटने देंगें इसकी ,
शान न जाने देंगें इसकी ,
भारत का श्रृंगार है हिन्दी |
आदेश कुमार पंकज

Leave a Reply