चन्दा कहता

चन्दा कहता, आज
मुझको पास बुलाकर
वह देखो एक स्त्री खड़ी है
कैसे हाथ फैलाकर ;

वह नितदिन दुखी रही है,
नए नए कष्टों से,
उसको दुखी किया गोरों ने
नए नए चक्रों से;
आज तो उसके स्व पुत्रजनों ने
उसको तंग किया है,
भ्रष्टाचार और धर्मोन्माद से
उसका खून पिया है।
– औचित्य कुमार सिंह

2 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 10/10/2015

Leave a Reply