मोल भाव

मोल भाव कर
एक रुपया बचा लिया
एक किलो गोभी में।
सूरज भी मधुर है
दीपक भी
किसको कितना छोड़ूँ कितना लूँ ।
– औचित्य कुमार सिंह (09.10.2015)

2 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/10/2015
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 09/10/2015

Leave a Reply