==* गजल *== ==* मैख़ाने जाना जरुरी है *==

मुझे मैख़ाना दिखादो यारो की अब पीना जरुरी है
हासिल गमोको भुलाने अब मैखाने जाना जरुरी है

न पीया अगर मै तो जीना मुश्किल हो जायेगा यहा
शराबकी तरह अश्कोका अब महकना जरुरी है

जिंदगीभी मैख़ाना बन बैठी है सारे गम भुलाने को
जिंदगीकोभी यारो अब मैखानो का पता जरुरी है

न हसरत कोई न किसीसे कोई गिला अब रहा मुझे
बिखरे रिश्तोंको फिरसे अब यहा मिलाना जरुरी है

जीनेके लिये जरुरी है यारो अब किसीके सहारेकि
जीनेके लिये यारो मेरा अब मैखाने जाना जरुरी है
————–*****—————–
शशिकांत शांडीले (SD), नागपूर
भ्रमणध्वनी – ९९७५९९५४५०
दि. ०९-१०-२०१५

3 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/10/2015
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 09/10/2015
  3. शशिकांत शांडिले SD 23/11/2015

Leave a Reply to SD Cancel reply