आगोश में यार के ……

जाने दिल को क्या हुआ पड़ा था तेरे प्यार में !
जहां की सारी खुशिया नजर आती थी यार में !!

कोई तुम सा ना मिला दुनिया के बाजार में !
उम्र अपनी गुजार दी एक तेरे इंतज़ार में !!

तन खोया मन भी खोया जान से गये प्यार में !
नजरो ने ढूंढा सुदूर तक मिले न तुम जहान में !!

कैसी मनहूस घडी थी वो जब जुदा हुए यार से !
अरसा बीत गया अब तो, दरस ना हुए यार के !!

ऐ खुदा रहम कर, ना इतना दर्द दे किसी को प्यार में
कुछ पल तो जीने दे रख के सर, आगोश में यार के !!

!
!
!
{{_______डी. के निवातियाँ ______}}

14 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/10/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 09/10/2015
  2. Shyam Shyam tiwari 08/10/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 09/10/2015
  3. राकेश जयहिन्द राकेश जयहिन्द 08/10/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 09/10/2015
  4. sahil khan 11/10/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 12/10/2015
  5. आमिताभ 'आलेख' आमिताभ 'आलेख' 12/10/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 13/10/2015
  6. Rinki Raut Rinki Raut 13/10/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 13/10/2015
  7. SONIKA SONIKA 13/10/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 13/10/2015

Leave a Reply