अपनापन

नाता भी कैसा
बददुवां भी कम
तरस आता १

भेदी हो घर
होती है शब्द ग़ुम
रिश्तों का नीवं २

तूफानी हवा
गुजरे तो अंदर
देखता रहा ३

जीता भी हारा
सब से हो अकेला
प्यार से मारा ४

अपनापन
नमक छिड़कता
देखो तमासा ५

दोस्त पड़ोस
परखता तुझे को
चौकना रहो ६

१०/०८/२०१५

5 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/10/2015
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 08/10/2015
  3. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Er. Anuj Tiwari"Indwar" 08/10/2015
  4. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Er. Anuj Tiwari"Indwar" 08/10/2015

Leave a Reply