ख़ुदारा! न दो बदगुमानी का मौका

खुदारा ! न दो बदगुमानी का मौक़ा।
कहलवा के औरों से पैग़ाम अपना॥

हविसकार आशिक भी ऐसा है जैसे–
वह बन्दा कि रख ले ख़ुदा नाम अपना॥

Leave a Reply