क्यों उसकी यह दिलजोई दिल जिसका दुखाना है

क्यों उसकी यह दिलजोई दिल जिसका दुखाना है।
ठहरा के निशाने को क्या तीर लगाना है॥

अंदाज़े-तग़ाफ़ुल पर दिल चोट तो खा बैठा।
अब उनकी निशानी को, उनसे भी छुपाना है॥

कमताक़तिये-नालाँ अश्कों से मदद ले लें।
बेरब्त कहानी में, पेबन्द लगाना है॥

Leave a Reply