विरह

मैं पिया मिलन को तरसी रे ,
मैं पिया मिलन को तरसी रे |
मेरी अँखियाँ झर-झर बरसी रे ,
मेरी अँखियाँ झर-झर बरसी रे ||

वो छोड़ गए , मुह मोड़ गए ,
सब रिश्ते – नाते तोड़ गए |
कुछ याद सुहानी जोड़ गए ,
कुछ विरह कहानी छोड़ गए ||
मेरी अँखियाँ ………….

तेरी प्रीत ही मेरी रीत हुई ,
जग छोड़ा तेरी मीत हुई |
प्रीत की रीत निभाने को ,
सारे जग से तीत हुई||
मेरी अँखियाँ …………..

बस एक ही मैं अरदास करूँ ,
तेरी एक नज़र की आस करूँ |
मैं दरद दीवानी फिरती फिरूं ,
मैं जीती मरुँ या मरती जीऊँ ||
मेरी अँखियाँ …………..

2 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 07/10/2015
  2. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Er. Anuj Tiwari"Indwar" 07/10/2015

Leave a Reply