मोहब्बत

तमाम उम्र मोहब्बत की सीढ़ियाँ नापी हमनें ,
जिस कदम उनसे मिले वो पायदान आखरी हो गया |

पहली मोहब्बत बनकर ताउम्र याद आना ,
या शरीक-ए-हयात होकर क़यामत के पार जाना |
हर दिल , हर शख्श की अपनी ही कैफ़ियत है ,
कुछ को है साथ आना , कुछ को है याद आना |

हुस्न की फितरतों से अच्छे से है वाकिफ़ ,
मोहब्बत के बाज़ार का तज़ुर्बा है पुराना |

जहां –
खुलते हैं दिल के दरवाज़े सिक्कों के शोर से ,
बदला जाता है अशर्फ़ियों से मोहब्बतों का खज़ाना |

ज़ीभर के रोए हम भी तमाम दौलत लुटाकर ,
इस शहर में बेदौलत का न कोई पता न ठिकाना |

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 07/10/2015

Leave a Reply