माँ – शिशिर “मधुकर”

तुमने मुझको समझा है हर पल
मुझको ये विश्वास है पूरा
बिन माँ के लगता है मानो
जीवन का अध्याय अधूरा
यदि ईश्वर की इच्छा से मैं
फिर ये मानव जीवन पाऊँ
केवल इतना माँगूंगा उससे
बनके बीज तेरी कोख में आऊँ.

शिशिर “मधुकर”

4 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 06/10/2015
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 06/10/2015
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 07/10/2015

Leave a Reply