प्यार की बरसात

मन की छत पर बज रहा था यादों की बूँदों से नित नए धुन
गीली मिट्टी से सने थे हाथ नयन के कई सपनों को बुन

गोरी के कारे केश जैसे लहरा रहे हैं ये बादल
हवाओं में सौंधी महक मिलन की, बनाते मन को पागल

बौछारों ने सारे गर्द धो डाले अहम के आज
प्रकृति का प्रेम की तृष्णा मिटाने का एक व्यर्थ प्रयास

देखो, आशा की खिड़की से फिर झाँक रहा मन सूरज बन कर
प्रेम की उद्घोषना हुई है इंद्रधनुष के सतरंगी परचम पर