रात

ये काली घनी अँधेरी रात
उनकी यादो की बारात ,
चाहे से ना जिन्हें भूल सके
आती है याद हर एक बात ||

वो भी तो काली रात थी
जब तुम मेरे साथ थी ,
ये भी वैसी ही रात है
बस यादे हमारे साथ है ||

यादे के गहरे जख्म से
वादों का दर्द रिसता हुआ ,
पल-पल तुम्हारी चाहत सनम
तिल -२ कर मैं मरता हुआ ||

मर कर भी ना मैं मर सका
ऐसा हमारा नाता रहा ,
तेरी तलाश हर गली
जनाजे की ओर से करता रहा ||

जिन अँधेरे से दूर भगा फिर
वो अंधेरे ही आखिर सहारा बने ,
जितनी सर्द भयानक बाहर है
उतनी गर्माहट है कब्र तले ||

अब काली घनी अंधेरी रात
बस मेरी दुनिया मेरे ख्वाब,
मिलन और जुदाई की सारथी रही
ये ठंडी सुहानी सितारों की रात ||

वो बरसात की राते
और चाहत की बाते ,
अब रुखसत के दिन
और जुदाई की राते ||

जुदाई की रात में दिल कहे —
कि—————
काली घनी अंधेरी रात

और उनकी यादो की बारात ||

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir 04/10/2015

Leave a Reply