इतिहास युगों का

सुनाता है इतिहास युगों का
सम्राटों की विजय गाथाएँ ,
क्या सुनती है कभी यह,
युद्ध मैं सर्वस्य खोया,
इन कृषकों की विरह-व्यथाएँ ?

सुनो ! इन महलो की चमक के पीछे,
गूंज रही स्वर हाहाकार की
सही जिन्होनें यातनाएँ ,
क्या सुनती है इतिहास यूगो की
इन मज़दूरो की व्याकुल-ब्यथाएँ ?

राज्य बना, सम्राज्य टूटा,
पर दुर्भाग्य का साथ देखो इनका,
कल भी था, आज भी ना छूटा,
हाए! तख़्त बदला, पर न बदले,
इनकी करुण दशाएँ,
इतिहास नही, साक्षी शोषण की देखो!
है ये धरती, है ये चारो दिशाएँ I

-पार्थ

6 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/10/2015
    • पार्थ पार्थ 02/10/2015
  2. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Er. Anuj Tiwari"Indwar" 03/10/2015
    • पार्थ पार्थ 03/10/2015
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 03/10/2015
  4. पार्थ पार्थ 03/10/2015

Leave a Reply