क्या कहे – ७

तुम राग अलापो शंखनाद
हम मस्जिद अजान बजायंगे
तुम मंदिर मंदिर तिलक लगाओ
हम पश्चिम सजदा जाएंगे
तुम उन्हें पुकारो काशी घाट पर
हम इन्हे मदरसे लाएंगे
तुम त्रिशूलों को करो नुकीला
हम धार तलवार लगाएंगे
तुम उन्हें सुनाओ बाबरी गाना
हम राम नाम चिल्लायेंगे
फिर प्यास बुझेगी वसुंधरा की
हम दिल से दिल को मिलाएंगे
और देख तमाशा गलियारों का
तख़्त पे ताज सजायेंगे

…………………………….

2 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/10/2015
    • shishu shishu 01/10/2015

Leave a Reply