आज

आज महिला दिवस पर
मन में बहुत कुछ चल रहा है,

क्या लिखूँ क्या न लिखूँ के बीच
समय बीत रहा है,

इसी बीतने में
हर दिवस हर त्यॊहार की तरह
यह भी निकल न जाए.

नही़ नहीं- मैं
मैं लिखूँगी अपनी एक कविता

Leave a Reply