सुबह की चाय

सुबह की चाय सिर्फ एक चाय तो नही ……..

शुरुआत है एक नये दिन की .
नये सपनो की ,
नई मंजिलों की ….. |

अगर हैं अकेले , तो सपने ज्यादा हसीन होते हैं,
सपनों के हर मोती को आशा के धागे से पिरोते हैं |
बनते हैं , बिगड़ते हैं, टूट कर बिखरते हैं,
बिखरने के बाद फिर – फिर से जुड़ते हैं ||

ये सिलसिला जिंदगी में ,
बार – बार आता है|
पर हर बार ये शुरुआत,
एक प्याला चाय ही करवाता है ||

महबूब के हाथ चाय की ,
बात ही कुछ और है,
वो प्याली की गर्माहट ,
और हाथों की नरमाहट,
इसे घूट-घूट पीना ,
उसे लमहा-लमहा जीना,
क्या कहू हजरात कि,
वो बात ही कुछ और है ||

वो चंद घूट जिंदगी की चाहत बन जाते हैं –
क्योंकि –
सुबह की चाय सिर्फ एक चाय तो नही ………..

5 Comments

  1. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Er. Anuj Tiwari"Indwar" 01/10/2015
    • sushil sushil 01/10/2015
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/10/2015
    • sushil sushil 01/10/2015
  3. आमिताभ 'आलेख' आमिताभ 'आलेख' 01/10/2015

Leave a Reply