कैसे बन जाते है गीत – शिशिर “मधुकर”

पहले मैं सोचा करता था कैसे बन जाते है गीत
तब मुझको पता नहीं था क्या होती है ये प्रीत
प्रीत लगी तो मन ही मन मैं कितना हर्षाया था
शायद गीत का मतलब अब मेरी समझ में आया था
मतलब समझा पर न समझा क्या होता है असली मरम
शायद मन में बना हुआ था तब तक कोई झूठा भरम
दिल टूटा तो मरम का मतलब भी समझ में आया था
फिर तो मेरे दिल ने भी गीतों को गुनगुनाया था .

शिशिर “मधुकर”

5 Comments

  1. Hitesh Kumar Sharma Hitesh Kumar Sharma 09/10/2015
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/10/2015
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 09/10/2015
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/10/2015

Leave a Reply