नारी का सम्मान करो ,नारी है नारायणी ….

नारी का सम्मान करो ,
नारी है नारायणी
भूल से भी ना इसका अपमान करो
यह है जगत कल्याणिनी
अनगिनत से उपकार जीवन में
किये है इसने हम सबपे
बहनो का कभी प्यार दिया ,
माता का इसने है दुलार दिया
बन बहू कहीं कभी इसने ,
कुटुंब को हमारे सँवार दिया
या फिर बन जीवनसाथी किसी का
जीवन को है आभार किया
कभी ना इसका दुत्कार करो
यह है प्रेमदायिनी
नारी का सम्मान करो ,नारी है नारायणी ….
बिन इसके ना तुलसी होते
ना श्याम कही कोई बन पाता,
कालिदास ना मिलते इस जग को ,
ना राम कही कोई बन पाता
अनुष्ठानो को बिन सहभागी के
सफल नहीं कोई कर पाता
साहित्यों से ले मानव जीवन तक
सब में है यह सम्माननीय
नारी का सम्मान करो ,नारी है नारायणी ….

4 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 30/09/2015
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 30/09/2015

Leave a Reply