गीत … आखिर क्यों ये पुरवा आई…..ड़ा श्याम गुप्त

गीत … आखिर क्यों ये पुरवा आई…..

मन की प्रीति पुरानी को, क्यों हवा दे गई ये पुरवाई |
सुख की नींद व्यथा सोई थी, आखिर क्यों ये पुरवा आई

हम खुश खुश थे जिए जा रहे, जीवन सुख रस पिए जारहे |
मस्त मगन सुख की नगरी में, सारा सुख सुन्दर गगरी में |
सुस्त पडी उस प्रति रीति को, छेड़ गयी क्यों ये पुरवाई | —आखिर क्यों ये….

प्रीति वियोग के भ्रम की बाती, जलती मन में विरह कथा सी |
गीत छंद रस भाव भिगोये, ढलती मन में गीत कथा सी |
पुरवा जब संदेशा लाई, मिलने का अंदेशा लाई | —आखिर क्यों ये पुरवा …

कैसे उनका करें सामना, कैसे मन को धीर बंधेगी |
पहलू में जब गैर के उनको, देख जले मन प्रीति छलेगी|
कैसे फिर यह दिल संभलेगा, मन ही तो है मन मचलेगा |

क्यों ये पुरवा फिर से आयी, क्यों नूतन संदेशा लाई |
मन की प्रीति पुरानी को, क्यों हवा देगई ये पुरवाई || —आखिर क्यों ये ….

5 Comments

  1. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Er. Anuj Tiwari"Indwar" 26/09/2015
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/09/2015
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 29/09/2015
  4. श्याम गुप्त shyamgupt 08/10/2015
  5. mani mani 01/02/2017

Leave a Reply