हमने रेत पर

हमने रेत पर तेरा नाम उतारा

दिल को जब याद तेरी आई तो

कदम यों ही मेरे बढ़ते चले गए

मन में जब आवाज तेरी आई तो

जिन्दगी कितनी हसीन हो गई है

नींद में जब ख्वाब तेरी आई तो

लो अब आॅखों ने तेरे मार ही डाले

मुखड़े पे जब नकाब तेरी आई तो

Leave a Reply