जो बीत गयीं यादें…

जो बीत गयीं यादें पीछे
उन यादों को अब याद न कर,
तेरी राह में हैं अब लोग बहुत
अब मिलने की फ़रियाद न कर।

जज़्बा-ए-दिल ग़र रखते हो
तो दिल में दफ़न कर दो यादें,
वो शख्स ग़र आये जो यादों में
तो उसको अब आदाब न कर।

कितने मीठे थे वो लम्हे
सर्दी की धूप सी वो यादें,
उन लम्हों को मुरझाने दो
अब उनको फिर आबाद न कर।

तुम दूर वहां पर रहते हो
हम आज यहां पर रहते हैं,
इन यहां-वहाँ के किस्सों में
यूँ वक़्त तू अब बर्बाद न कर।

— अमिताभ ‘आलेख’

4 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir 24/09/2015
    • आमिताभ 'आलेख' आमिताभ 24/09/2015
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 24/09/2015
    • आमिताभ 'आलेख' आमिताभ 24/09/2015

Leave a Reply