चुनाव के दिन

ना किया मना सूरज मे
जग का तिमिर मिटाने को
नदियो ने खोली बाहे
सबकी प्यास बुझाने को
पर्वतों ने भी दिये खलिहान
जीवो की क्षुधा मिटाने को
ना सूरज ने नखरे रखे
ना नदियों ने इन्कार किया
पर्वतों ने भी अपनेपन का
टूटकर भी प्रसार किया
फिर इन्सान क्यो जंहा मे
झूठे परचम लहराता है
किस कारण से हम मे
अहंकार आ जाता है
नदिया है महान जग मे
जो जग के पाँव सहलाती है
फलो से लदी डालिया भी स्वार्थ रहित हो
खुद नीचे झुक जाती है
धरती ने ना किया घमंड
जग का बोझ उठाने को
फूलो की खुशबू भी होती
इस जग को महकाने को
ना सूरज सा तेज
ना झरने सी शीतलता
ना पर्वतों सी है दृढता
ना फूलो सी सुन्दरता
ना सर्वज्ञ होता कोई
ना नदियों सी निर्मलता
प्रकृति ने ना किया घमंड
तो हम कैसे दिखाया करते है
क्यो अहंकार मे भरकर
ना शीश नवाया करते है
आत्मसम्मान जग मे यारो
इन्सान को महान बनाता है
अहंकार कारण अवनति का
बस सर्वनाश करवाता है