“कलम”

ऐ कलम तू मत रो, पन्नों पर ना सही ख्यालों में तुझसे लिखता रहूँगा।।

जब तक मुझमें है जान और तुझमें है स्याही सच लिखता रहूँगा।।