मोहब्बत के सहारे

जब तक नदी हूँ बहने को किनारे चाहिए
जीने के लिए मोहब्बत के सहारे चाहिए
सागर बनूँगी तब तलक तुम रहना मेरे साथ
हो कुछ भी तुम न छोड़ना हाथों से मेरा हाथ
छोड़ के सागर जो फिर बदली बनूँगी मैं
बरसा के अपना नीर सींचूंगी मैं तुम्हे.

शिशिर “मधुकर

2 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 22/09/2015
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/09/2015

Leave a Reply