बूँदें…..

मुझे मेरी साँसों का वास्ता ..
देखा कितने दिनों ऐ बूंदों ..
मैंने तुम्हारा रास्ता…
आयी न तुम इस बार बहार महकाने को..
तड़पती धरती की ताप्ती प्यास बूझने को ..
खेत खलियान सुने पड़े हैं…
किसान नभ की ओर हाथ जोड़े खड़े हैं..
यूँ न ज़िन्दगी को तुम इतना तरसाओ …
किसी की आत्महत्या पर न मुस्कुराओ..
किसान टूट गया तो इंसानियत तिलमिलाएगी…
जाने ये कड़ी धुप और कितना झुलसाएगी ..
हुआ हैं हमसे कुछ कसूर ज्यादा , हम जानते हैं..
सीमेंट के जंगल में अब पेड़ों की अहमियत पहचानते हैं..
माफ़ कर दो न हम मनचले इंसानो को…
जाने क्यों हम लगे हैं अपना ही कफ़न सजाने को….
ए बूंदों आकर तुम ज़रा झमाझम बरस जाओ….
कहीं तन्नी कहीं नीर और कहीं जल बनकर..
हर उखड़ती सॉंस को जीवित पल दे जाओ….

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/09/2015

Leave a Reply