मुस्कुराते रहिये….

मुश्किल हो फिर भी अपने ग़म छुपाते रहिये….
अपनी आँखों में हसीन ख्वाब सजाते रहिये….
वक्त का क्या भरोसा, न जाने कब बदल जाये….
बेवजह ही सही पर आप मुस्कुराते रहिये….

गुलशन के मुरझाये फूलों को खिलाते रहिये….
अपने अरमानों की महफिल सजाते रहिये….
जुआ है गर जिंदगी, तो किस्मत आजमाते रहिये…..
बेवजह ही सही पर आप मुस्कुराते रहिये….

4 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 17/09/2015
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/09/2015

Leave a Reply