दिलों के मिलन

खुश हूँ मैं कि अब तुम्हे अहसास ये होने लगा है
इन बाँहों में तुम महफूज़ हो हर डर भी अब खोने लगा है
प्रेम की गहराइयों को तुमने भी अब छू लिया है
दो दिलों के मिलन के अमृत का घूँट पी लिया है
अब न कभी जीवन में तुम अपने को अकेला पाओगी
इस प्रेम की शक्ति से हर मुश्किल से तुम टकराओगी
मैं भी तुम्हारे साथ हर एक मोड़ पे चलता रहूँगा
तुमको ख़ुशी देनें की एक परवाह सदा करता रहूँगा
मिलके हम तुम इस सफर को अब तो पूरा कर ही लेंगे
ढ़ेर सी खुशियों से अपने दामनों को भर ही लेंगें.

शिशिर “मधुकर”

2 Comments

  1. डी. के. निवातिया DK Nivatiyan 16/09/2015
  2. Shishir "Madhukar" Shishir 16/09/2015

Leave a Reply