ढूढ़ते हो तुम यहॉं जो

ढूढ़ते हो तुम यहॉं जो अक्सर वही मिलता नहीं
आबो हवा माफिक न हो तो चाहत का गुल खिलता नहीं
कितनी भी कोशिश तुम करोकि साथ में चलते रहें
हमसफर ही साथ न दे तो मुसाफिर क्या करे
साथ चलने के लिएपड़ता है स्वार्थ छोड़ना
कुछ भी करना लेकिन कभी अपनों का दिल न तोड़ना
साथी के जीवन चित्र मेंचाहत की उसके रंग भरो
पहले खुशियां दो उसे फिर अपने लिए आशा करो।

शिशिर “मधुकर”

4 Comments

  1. kiran kapur gulati Kiran Kapur Gulati 10/09/2015
  2. Shishir "Madhukar" Shishir 11/09/2015
  3. mani mani 29/07/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/07/2016

Leave a Reply