नई शुरुआत

बहुत हो चुका अब एक नई शुरुआत करनी है
क्या हो सकता है केवल उसकी बात करनी है
संबधो के बंधनो को तोड़ देना है
दिल की कही बातों को सुनना छोड़ देना
आशा और निराशा के भंवर से बाहर आना है
जिन्दगी में मिला है जो उसी पर मुस्कराना है
अपने और पराये का नही कोई भेद करना है
सभी के साथ जीना है सभी के साथ मरना है
किसी के साथ अब हमको नहीं कोई दौड़ करनी है
जब साथ कुछ जाता नही क्यों होड़ करनी है
जीवन की सब घटनाओं को सहजता से लेना है
आंधियों और तूफानों में जीवन नैया को खेना है
ग़मों से छूटनें की जल्द मालूमात करनी है
खुशियों की अब हमको यहाँ इफरात करनी है
बहुत हो चुका अब एक नई शुरुआत करनी है
क्या हो सकता है केवल उसकी बात करनी है

शिशिर “मधुकर”

Leave a Reply