चाहत की ख़ता

वक्त हमको ना जाने किस मोड़ पर ले आया है
रिश्ते तो हैं सब नाम के पर ना कोई हमसाया है
ढूढ़ते हैं हम मोहब्बत फिर भी इन वीरानों में
लेकिन नही है कोई धड़कन सीनों मे इन बेजानों के
जिनके लिए छोड़ा जहाँ वो सब बेगाने हो गए
अपने गमों में डूब कर हम दीवाने हो गए
किससे कहें अपने फसाने और किस गोद में ये सर रखें
बस चल रहे है लड़खड़ाते दुखते जख्मों को ढके
कब तलक हिम्मत बटोरे जहर यूं पीते रहें
बिन हवा रोते तड़पते यूं ही फ़ना होते रहें
ए वक्त तू मेरी कहानी अब इस जमाने को बता
जिससे करे ना कोई यहाँ सब को चाहने की ख़ता।

शिशिर “मधुकर”

2 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 09/09/2015
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/09/2015

Leave a Reply