मेरी सुकोमल परी

मेरी सुकोमल सी परी समान,
ना जाने कब हो गयी जवान।

उसके आने से जगमगा गया मेरा आन्गन,
और हजारो फूल ्खिल गये हमारी बगियन।

मासूम सा उसका चेहरा सुकोमल से उसके हाथ,
देखते नही बनते बस हो गये लाजवाब।

मा पापा की दुलारी को गोदी मे लिये फिरते थे सभी महमान,
आज प्यारी नन्ही परी मेरी हो गयी है जवान ।

रातो को जगाती थी कभी, तभी, अभी भी,
भगाती थी कभी,तभी,अभी भी।

एक झलक उसकी देखने को तरसते है नयन,
बस मुस्कराहत उसकी देखकर हो जाता है चयन।

नाजो से पाला वसुन्धरा को हम दोनो ने दिनो रात,
आन्च भी ना आने पाये हमारी पुत्री को इस या उस पार।

पापा वसु के सुनाते थे लोह्ररी,
आज भी दिल गद्द-गद्द हो उथता पापा का जब देखते उसके नयन चोरी-चोरी।

जो फरमाईश करती उसे पूरा करते हर पल,
रोक ना पाते बस एक कर देते जल थल।

लादो हमारी को ना लगे किसी की नजर,
दिल और दिमाग बस देती यही दुआ हर पहर।

4 Comments

  1. Hitesh Kumar Sharma Hitesh Kumar Sharma 09/09/2015
    • उर्मिला 09/09/2015
  2. डी. के. निवातिया D K 09/09/2015
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/09/2015

Leave a Reply