मँहगाई

जन – गण – मन के देवता , अब तो आँखें खोल
महँगाई से हो गया , जीवन डाँवाडोल
जीवन डाँवाडोल , ख़बर लो शीघ्र कृपालू
कलाकंद के भाव बिक रहे बैंगन – आलू
कहँ ‘ काका ‘ कवि , दूध – दही को तरसे बच्चे
आठ रुपये के किलो टमाटर , वह भी कच्चे

राशन की दुकान पर , देख भयंकर भीर
‘ क्यू ’ में धक्का मारकर , पहुँच गये बलवीर
पहुँच गये बलवीर , ले लिया नंबर पहिला
खड़े रह गये निर्बल , बू ढ़े , बच्चे , महिला
कहँ ‘ काका ‘ कवि , करके बंद धरम का काँटा
लाला बोले – भागो , खत्म हो गया आटा

Leave a Reply