हुस्न और इश्क

हुस्न जब इश्क की आवाज बने
उसी सूरत में वो मुमताज बने
चाहनें वालों में जब ना हो ये ज़ज्बा
कैसे मुहब्बतों का हँसी ताज बने।
हद से जो गुजर जाए वो ही प्यार बने
नहीं तो कोई किसी का यहाँ क्यूँ यार बने
नफ़े नुकसान की जो सोचते रहें हरदम
उल्फतों के भी फिर तो यहाँ बाजार बने।
नफ़रतों की हरदम यहाँ दीवार बने
प्यार सदियों से सफर में पतवार बने
मिलते हैं जब दिलों से दिल सबके
जिन्दगी मोतियों का हार बने।

शिशिर “मधुकर”

2 Comments

  1. babucm babucm 08/08/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/08/2016

Leave a Reply