आजमाना भी जानता है वो

आजमाना भी जानता है वो
भूल जाना भी जानता है वो ।

दिल लुभाना भी जानता है वो
जी जलाना भी जानता है वो ।

दूर होकर दिखा दिया उसने
पास आना भी जानता है वो ।

ग़ैर ने अब तो कर दिया साबित
नाज उठाना भी जानता है वो ।

क्यूँ कफ़स से न आशना हो लूँ
आशियाना भी जानता है वो ।

सोज तो दिल्लगी में प्यार हुआ
दिल लगाना भी जानता है वो ।

Leave a Reply