लाल गुलाब

एक लाल गुलाब मुझे
सपनो मे रोज बुलाता है
अपनी लाल लाल पंखुडियो से
मन को मेरे मचलाता है
वो पूर्ण प्रतीक है प्रेम का
काटो के बीच स्नेह का
वो लाल रंग है त्याग का
कंटको की तीक्ष्ण चुभन से
वो मंद मंद मुस्काता है
मै ना बनू और कुछ
बस एक लाल गुलाब बनू
प्रेम,स्नेह,त्याग,बलिदान
लाल लहू की एक मूर्त बनू
ओ लाल गुलाब
जो तुम मुझे बुलाते हो
आती हू मै बन के अमन
ईष्या को यही सुलाती हू