बिखर गया

बिखर गया
अगर सपना सुहाना
जिदंगी के लिए
फिर से सपने सजाना
और कर्म मे जो अकेला जुट गया
चाहे ना किस्मत हो साथ
ना मिले कोई सहारा
दुर्गम से दुर्गम गंतव्य से सहज ही निकल गया
बिखर गया
अगर परिवार तेरा
स्वजनो के हृदय से
उठ गया हो तेरा डेरा
छोड दे मोह माया अगर मन बँध गया
कर हृदय विस्तृत
सब जनो से हाथ मिला
प्रेमभाव से सम्पूर्ण धरा को अपना परिवार बना
बिखर गया
अगर सम्मान तेरा
सम्मानकी खातिर
दिखा फिर से सवेरा
छोड के अपमान की चिंता जो आगे बढ गया
निकल गया निर्भीक चिता से
और मिला उसको अमृत
सफल वही इन्सान बना