डसति हे ये कलि रात्…

डसति हे ये कलि रात मुझे
आज फिर तेति काहानि हे याद आइ
तु तो नहि हे पास मेरे
साथ हे तो बस ये तन्हाइ
डसति हे ये कलि रात मुझे…..

नएनो से बेह्गइ सारि खुसि पानि कि जेसे
और बना गयि उस कि झिल और झिल कि एक नदि जेसे
तेहेरति हु आज भि उसमे एक कस्ति कि तरहा,,किनारे कि आस मे, भटकति हु यहाँ वहाँ बस मनजिल कि आश मे,,,

डसति हे ये कालि रात मुझे……………..

कमि नाथि उस पल मे, कमि हे तो आज के ये दिन मे
जो लगे अधुरि,,,
कोरे कागज के तुकडो कि तरहा रेहगइ बिखरि
डसति हे ये कालि रात मुझे………
मोउसम कि तरहा बद्ल गइ जिन्देगि का रुख एकहि पल मे,,,,
तोड डालि तुने जो सारि रस्मे…..
सिक्वा नहि इस जिन्देगि से, कि उसने कि बेब्फआइ,,
किसमत मे हि जो थ। नहि, उस से केसि रुसव​।इ…
डसति हे ये कलि र।त मुझे..

अब फिरसे उमिद कि एक किरन जगि हे सिने मे,
ख्व।इस तो नहि बस कोसिस हे जिने मे..
डसति हे ये कलि र।त मुझे….

2 Comments

  1. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari"Indwar" 30/08/2015
  2. prayash meher 23/09/2016

Leave a Reply