पत्थर तराशते रहे ……….!!

    1. हम दिखावे के उजालो में,
      तन्हाई के लिए अँधेरे तलाशते रहे !
      ख्वाबो में देखी तस्वीर को,
      हकीकत में ढालने के लिए पत्थर तराशते रहे !!

      ज़माना लूटता रहा,
      खुशियो से आबरू – ऐ – इंसानियत !
      अपनी शान बचाने में,
      हम शर्म की चादर से खुद को ढापते रहे !!

      बेईमानी की शरद रातो में,
      वो दौलत की आग से हुए पसीना पसीना !
      अपना हाल कुछ यूँ था,
      ईमानदारी कीलौ में भी थर्र थर्र कापते रहे !!

      लालच की लालसा में
      ज़माना बेदर्द है कितना मालूम जब हुआ !
      देखा रिश्तो का क़त्ल होते,
      लोग अपनों को ही गाजर मूली सा काटते रहे !!

      क्या करोगे जानकार “धर्म”
      जमाने का दस्तूर बड़ा निराला होता हैं !
      जिन्हे हक़ दिया अपना,
      वो ही नश्तर चुभाकर, मरहम लगाते रहे !!

      हम दिखावे के उजालो में,
      तन्हाई के लिए अँधेरे तलाशते रहे !
      ख्वाबो में देखी तस्वीर को,
      हकीकत में ढालने के लिए पत्थर तराशते रहे !!
      !
      !
      !
      डी. के. निवातियाँ __!!!

9 Comments

  1. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari"Indwar" 27/08/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 27/08/2015
  2. mkkuldeep mahesh kumar kuldeep 28/08/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/08/2015
  3. kiran kapur gulati Kiran Kapur Gulati 28/08/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/08/2015
  4. Hitesh Kumar Sharma Hitesh Kumar Sharma 28/08/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/08/2015
  5. C.M. Sharma C.m sharma(babbu) 10/09/2016

Leave a Reply