डर जाता हूँ सहम जाता हूँ मैं

डर जाता हूँ
सहम जाता हूँ मैं
कहीं तुम मुझ से दूर न चली जाओ
जितना गम दिया है तुम्हें
कभी छोड़ न दो हमें
दीवारे तो खड़ी हो गई
शायद कभी न मिटा पाये हम
फिर भी फासले मिटाने की
जूररत की है मैंने
थोड़ा मुहलत मुझको तो दो
ताकि शाबित कर पाए
आपके कितने करीब है हम
ऐसे तो आप भी चाहते होंगे
दूरियाँ कम हो, फासले मिटे
दीवारे गिर जाय
पर हालाते?
हालाते आपको भी जकरकर रखा हुआ है
मुसीबत की झड़ी हमको भी छोड़्ती नही
कहीं आप दिल हार न बैठे
डर जाता हूँ
सहम जाता हूँ मैं

वक्त का तकाजा किया हैं
हमको भी मालूम नहीं
दो दिन बाद किया होगा
कुछ पता नहीं
घबड़ाहट अंदर से तो
मुझ में भी है
पर आपको दिखा नही सकता
कहीं आप मेरे दिल की बात
पढ़ न ले
पर आप जानते है
मेरे दिल में क्या हैं
चाहता हूँ मैं
हालाते मेरे साथ हो
आप भी मेरे साथ रहे
होनी कहीं अन्होनी न बन जाए
कहीं आप आपा न खो बैठे
डर जाता हूँ
सहम जाता हूँ मैं

Leave a Reply