हर पल इसी चाहत की तलाश थी..

तेरे तन्हाई के समुन्दर में मुझे, मेरे प्यार की तलाश थी ;
तेरे उदासी भरे पल में मुझे , एक मुस्कान की तलाश थी ;
तेरे अकेलेपन की ज़िंदगी में मुझे , मेरे साथ की तलाश थी ;
मैं तुझमे और तू मुझमें मिले , हर पल इसी चाहत की तलाश थी !!

तेरे गुमनाम सी ज़िन्दगी में मुझे, मेरे नाम की तलाश थी ;
तेरे परेशानी भरे पल में मुझे, मेरी राहत की तलाश थी ,
तेरे सहमें हुए दिल में मुझे , मेरी हिम्मत की तलाश थी ;
मैं तुझमे और तू मुझमें मिले , हर पल इसी चाहत की तलाश थी !!

तेरे अधूरे से ख्वाब को मुझे, पूरा करने की तलाश थी ;
तेरे मुरझाये बागों को मुझे, उसे खिलाने की तलाश थी ;
तेरे दिन की शुरुआत में मुझे , मेरे संग की तलाश थी ;
मैं तुझमे और तू मुझमें मिले , हर पल इसी चाहत की तलाश थी !!

तेरे सुनसान राहों में मुझे, मेरी मुलाकात की तलाश थी ;
तेरे बुरे वक़्त में मुझे ,मेरी दुआओं की तलाश थी ;
तेरे सुकून की नींद में मुझे ,मेरे सपनों की तलाश थी ;
मैं तुझमे और तू मुझमें मिले , हर पल इसी चाहत की तलाश थी !!

4 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 22/08/2015
    • Ankita Anshu Ankita Anshu 23/08/2015
  2. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari"Indwar" 23/08/2015
    • Ankita Anshu Ankita Anshu 23/08/2015

Leave a Reply