मुझे तो बस परवाह है तेरी

तू दिल की पहली हसरत है मेरी |
तू ही और तू बस चाहत है मेरी |
अब तो तेरे बिना अधूरी मोहब्बत है मेरी |
तू ही दुआ और तू ही इबादत है मेरी |
तेरे नाम से ही ज़िन्दगी में अब रौनक है मेरी |

कैसे बताऊँ तू ही और तू बस जरुरत है मेरी ||
कुछ भी सोचे ये दुनिया , मुझे तो बस परवाह है तेरी ||

तेरी एक मुस्कान ने ही मेरी ज़िन्दगी है सँवारी|
तेरे प्यार के आगे तो अब जुदाई भी है हारी |
महसूस कर के देखा तो साँसों को भी जरूरत है तेरी |
बिन तेरे गुमनाम-खामोश ज़िन्दगी है मेरी |
अब तू ही बन गयी है किस्मत की लकीर मेरी |

कैसे बताऊँ तू ही और तू बस जरुरत है मेरी |
कुछ भी सोचे ये दुनिया , मुझे तो बस परवाह है तेरी ||

तू ही एक सच्चाई है इस झूठ भरी ज़िन्दगी की मेरी |
अभी तक अँधेरे में ही मैंने पूरी ज़िन्दगी है गुजारी |
नयी जगमगाती किरण हो आने वाले कल की हमारी |
कुछ और नहीं बस ज़िन्दगी भर साथ की जरुरत है तेरी |
भरोसा रखकर देख खुशियां ही खुशियां लूटा दूंगा मैं क़दमों में तेरी|

कैसे बताऊँ तू ही और तू बस जरुरत है मेरी |
कुछ भी सोचे ये दुनिया , मुझे तो बस परवाह है तेरी ||

4 Comments

  1. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Anuj Tiwari"Indwar" 19/08/2015
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 19/08/2015
  3. Ankita Anshu Ankita Anshu 19/08/2015
  4. Chirag Raja 19/08/2015

Leave a Reply