टूटे धागे जुड़ जाते है पर टूटे दिल नहीं जुड़ते

टूटे धागे जुड़ जाते है
पर टूटे दिल नहीं जुड़ते
साज वफ़ा के मिल जाते है
पर टूटे साज नहीं बजते
होती है बदनाम मोहब्बत
पर बेनाम मोहब्बत नहीं मिलते
रुखसत होती है नजरे अश्क़ो से
पर गिरते अश्क़ नहीं जुड़ते
चाहा करते है प्यारी सी मूरत को
पर मनचाहा प्यार नहीं मिलते
टूटी यादें जुड़ जाती है
पर टूटे दिल नहीं जुड़ते.

Leave a Reply