रूमालों पर

हम रूमालों पर

कढ़े हैं

प्रीत के अक्षर

कब तहा कर

रख चलो

किस जेब में तुम

कौन

जाने ?

Leave a Reply