आज दिल में मेरे प्यार आया है

अब तक हम थे जिससे बेखबर
जिसका हम पे न था कोई असर
वो अवसर हमें पहली बार आया है
आज दिल में मेरे प्यार आया है |

उनकी बातें ,सौगाते हम भूलते नही
उनको हमसे प्यार पर कुबूलते नही
उनकी खूबियों का अखबार आया है
आज दिल में मेरे प्यार आया है|

उनका मुस्कुराना ,वो शर्माना
जिस पर बना मेरा प्यारा आशियाना
आज उनकी अदा पे इख़्तियार आया है
आज दिल में मेरे प्यार आया है |

उनके बिना अब तो जीना नही
परीवश का कोई और नमूना नहीं
ये जुबां पे मेरे इकरार आया है
आज दिल में मेरे प्यार आया है|

आज उनसे मुलाकात को निकले हैं हम
याद में सारी रात पिघले हैं हम
बादलों से देखो इजहार आया है
आज दिल में मेरे प्यार आया है||
by –महर्षि त्रिपाठी

Leave a Reply