श्रद्धांजलि….डॉ कलाम

तुझे कोशिशों का सुरूर था जो ज़माना इतना बदल गया
तेरे इल्म से जो उरूज था तेरे साथ सूरज ढल गया

Leave a Reply